Akhlaq Mohammed Khan
Shahryar
( 1936 - 2012 )

Akhlaq Mohammad Khan 'Shahryar' (Hindi: अख़लाक़ मुहम्मद ख़ान 'शहरयार'), was an Indian academician, and a doyen of Urdu poetry in India. As a Hindi film lyricist, he is best known for his lyrics in Gaman and Umrao Jaan directed by Muzaffar Ali. More

कहने को तो हर बात कही तेरे मुक़ाबिल लेकिन वो फ़साना जो मिरे दिल पे रक़म है ...

नुकीले नाख़ुनों से अपनी क़ब्रें खोदते जाओ थकन से चूर चेहरों पर अभी तक शर्म के आसार बाक़ी हैं अँधेरों के किसी पाताल में ...

तेरे वादे को कभी झूट नहीं समझूँगा आज की रात भी दरवाज़ा खुला रक्खूँगा ...

जो होने वाला है अब उस की फ़िक्र क्या कीजे जो हो चुका है उसी पर यक़ीं नहीं आता...

जुस्तुजू जिस की थी उस को तो न पाया हम ने इस बहाने से मगर देख ली दुनिया हम ने...

कहाँ तक वक़्त के दरिया को हम ठहरा हुआ देखें ये हसरत है कि इन आँखों से कुछ होता हुआ देखें...

कहिए तो आसमाँ को ज़मीं पर उतार लाएँ मुश्किल नहीं है कुछ भी अगर ठान लीजिए...

ख़जिल चराग़ों से अहल-ए-वफ़ा को होना है कि सरफ़राज़ यहाँ फिर हवा को होना है...

किस किस तरह से मुझ को न रुस्वा किया गया ग़ैरों का नाम मेरे लहू से लिखा गया...

कौन सी बात है जो उस में नहीं उस को देखे मिरी नज़र से कोई...