ग़ुलामी में न काम आती हैं शमशीरें न तदबीरें
ग़ुलामी में न काम आती हैं शमशीरें न तदबीरें जो हो ज़ौक़-ए-यक़ीं पैदा तो कट जाती हैं ज़ंजीरें

Read Next