नींद आई भी न आई
नींद आई भी न आई, और मैं सोता हुआ जगता रहा, ओस बूँदों में झलकते सूर्य को लखता रहा।

Read Next